What is nursing in hindi



free nursing mock test series

free nursing mock test series

nursing

क्या आप भी नर्सिंग के क्षेत्र में करियर की तलाश कर रहे हैं तो आप सही जगह पर हो यहां पर हमने आपके लिए नर्सिंग से संबंधित सभी बिंदु पर प्रकाश डालने का प्रयास किया है nursing आज के समय में बहुत तेजी से आगे बढ़ने वाला पेशा है। Nursing इन दिनों एक उजले करियर के रूप में सामने आया है।

यह एक ऐसा कोर्स है जिसे गांवों से लेकर शहर तक के छात्र-छात्राएं करना पसंद करते हैं। नर्सिंग का कोर्स वे लोग भी करना चाहते हैं जो समाज की सेवा करना चाहते हैं। तो चलिए आगे बढ़ते हैं और आपको नर्सिंग के बारे में अधिक जानकारी देते हैं कि नर्सिंग कैसे करें, कैसे अपना करियर इस क्षेत्र में बनायें आदि।

Nursing क्या है ?

नर्स ऐसे प्रोफेशनल होते हैं जिन्हें बीमार और घायल लोगों की केयर करने के लिए ट्रेन किया जाता है अगर आपको लोगों की मदद करना अच्छा लगता है और घायल जख्मी लोगों की सेवा करके आपको खुशी मिलती है तो Nursing आपके लिए बहुत ही अच्छा संतोषजनक करियर ऑप्शन बन सकता है Nursing करने के लिए आपके पास कई Course ऑप्शन होते हैं जैसे कि ANM, GNM , B.SC, M.SC इन कोर्स को करने के बाद आप नर्स बन सकते हैं |

Nursing course

ANM (auxiliary nurse midwifery)

ANM 1 से 2 साल का कोर्स होता है जिसके अवधि इंस्टीट्यूट पर डिपेंड करती है इस कोर्स को करने के लिए आपको 10+2 क्लास क्लियर करना जरूरी है | Arts और science स्ट्रीम के स्टूडेंट्स इस कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं इस कोर्स को करने के लिए कैंडिडेट का क्वालीफाइंग एग्जाम में 40% से 50% मार्क्स gain करना जरूरी है काई इंस्टिट्यूट में केवल फीमेल स्टूडेंट्स ही कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते है इस कोर्स को करने के लिए candidate की उम्र 17 से 35 तक होनी चाहिए |

GNM diploma in general nursing and midwifery)

यह एक डिप्लोमा कोर्से यह कोर्से 3.5 साल का होता है जिसमें 6 महीने की ट्रेनिंग भी शामिल होती है यह कोर्स करने के लिए आपको 10+2 क्लास PCB से क्लियर करना जरूरी है | जिसमे कम से कम 45% मार्क्स होने जरूरी है आपकी उम्र कम से कम 17 साल से 35 साल तक होनी चाहिए | अलग-अलग इंस्टीटूट में GNM कोर्स में admission के लिए थोड़ा डिफ्रेंस हो सकता |

b.sc nursing

b.sc नर्सिंग एक चार साल का प्रोफेशनल कोर्स होता है जिसमे एडमिशन लेने के लिए आपको 10+2 (PCB) से पूरा किया जाना जरूरी है इस कोर्स में एडमिशन के लिए बहुत से एंट्रेंस एग्जाम होते हैं जैसे JIPMER, IUET (Integral university entrance test), IGNOU Openmat, nupmat, परीक्षाओं को क्लियर करके आप B.sc नर्सिंग मी एडमिशन ले सकते हैं आगे बढ़ते हैं
थोड़ा और बात करते हैं B.sc नर्सिंग कोर्स के क्राइटेरिया के बारे में B.sc नर्सिंग कोर्स में आपको दो ऑप्शन मिलते हैं
1. B.sc basic
2. b.sc post basic

B.sc basic

इन दोनों ऑप्शन का क्राइटेरिया अलग-अलग होता है जो कि कुछ इस तरह है B.sc basic में एडमिशन के लिए कैंडिडेट के तौर पर आपका 10+2 एग्जाम PCB के साथ क्लियर होना चाहिए उसके साथ-साथ आपका medically फिट होना भी जरुरी है

b.sc post basic

b.sc post basic की बात करे तो यहाँ पर एडमिशन के लिए सबसे पहले कैंडिडेट का 10+2 एग्जाम क्लियर PCB के साथ क्लियर होना ज़रूरी है इसके बाद कैंडिडेट को GNM (general nursing and midwifery) में सर्टिफ़िकेट लेना होगा और खुद का नाम RNRM (registered nurse registered midwife) रजिस्टर भी करवाना होगा इसके साथ-साथ कैंडिडेट को indian nursing council से ट्रेनिंग का प्रूफ़ भी submit कराना ज़रूरी होता है जो की इन में से कोई भी दे सकता है :
1. leprosy nursing
2. cancer nursing
3. tB nursing
4. neurological & neuro nursing
5. operation theatre techniques
6. ophthalmic nursing
7. community health nursing

skills

तो जो नर्सिंग कोर्स का जो क्रेटरिया है और जो कंडिशंस है उसे जानने के बाद हमे ये जानना भी ज़रूरी है की आप में कौन-कौन से स्किल्स होनी चाइये| नर्स का profession एक noble profession है जिसमे आप को हर दिन अलग-अलग तरह के patient के साथ डील करनी होती है

ऐसे में सब से पहले आप में Patience यानि की धर्य का होना बहुत ज़रूरी है क्योंकि इस profession की सब से पहली ज़रूरत ही धर्य है इसके साथ आपको नर्स के तौर पर patient की केयर करने से जुडी मेडिकल नॉलेज भी होनी चाइये और patient के रिकॉर्ड मेंटेन करने जैसे काम करने के अलावा आपकी communication skills भी इतनी अच्छी होनी चाइये पेशेंट की तख़लीफ़ को काम कर सके और उसे यकीन दिला से की वो बहुत जल्दी ही ठीक हो जायेगा |

b.sc नर्सिंग कोर्स के दौरान केवल मेडिकल टर्म्स एंड ट्रीटमेंट ही नहीं सिखाया जाता बल्कि पेशेंट की कम्पलीट केयर को ध्यान में रखते हुए ऐसे सभी सब्जेक्ट पढ़ाए जाते है जो मरीज को पूरी तरह से ठीक करने के लिए ज़रूरी होते है

miscellaneous

It’s time to rise

It’s time to work

It’time to do

Save Nature
(God will Don’t Create again a new Planet For us)