Human rights act 1993 in Hindi | मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम

human rights


human rights act 1993

मानवाधिकार : मनुष्य को वो सभी अधिकार देना जो व्यक्ति के जीवन स्वतंत्रता, समानता एवं प्रतिष्ठा से जुड़े हुए हैं मानवाधिकार के तहत आते है आप सभी जानते हैं कि मानव अधिकार प्रत्येक मनुष्य के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं हम इस लेख में मानव अधिकार के बारे में जानेंगे |

मानवाधिकार की शुरुआत के कुछ महत्वपूर्ण वर्ष –

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

1215 का मैग्ना कार्टा

मैग्ना कार्टा इंग्लैंड का एक कानूनी परिपत्र था जिसमें इंग्लैंड के राजा जॉन ने अपनी प्रजा के कुछ अधिकारों की रक्षा की स्पष्ट रूप से पुष्टि की जिनमें से बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका उल्लेखनीय है |

बंदी प्रत्यक्षीकरण– बंदी प्रत्यक्षीकरण के लिए नींव 1215 के मैग्ना कार्टा द्वारा रखी गई थी। बंदी प्रत्यक्षीकरण एक प्रकार का कानूनी आज्ञा पत्र होता है बंदी प्रत्यक्षीकरण आज्ञापत्र अदालत द्वारा पुलिस या अन्य गिरफ्तार करने वाली राज्य संस्था को आदेश जारी करता है कि बंदी को अदालत में पेश किया जाए और उसके विरुद्ध लगे हुए आरोप को अदालत में बताया जाए | बंदी प्रत्यक्षीकरण के प्रादेश को जारी करने की प्रक्रिया को पहली बार बंदी प्रत्यक्षीकरण अधिनियम 1679 द्वारा संहिताबद्ध किया गया |

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

बिल ऑफ राइट्स 1689

इंग्लैंड द्वारा 16 sep 1689 में पारित एक अधिनियम था जो संवैधानिक मामलों और नागरिक अधिकारों को स्थापित करता है इस अधिनियम को इंग्लैंड की क्रांति के बाद लाया गया था | बिल ऑफ़ राइट्स 1689, जिसे बिल ऑफ़ राइट्स 1688 के रूप में भी जाना जाता है, इंग्लैंड के संवैधानिक कानून में एक ऐतिहासिक अधिनियम है जो कुछ बुनियादी नागरिक अधिकारों को निर्धारित करता है और स्पष्ट करता है कि क्राउन का उत्तराधिकारी कौन होगा।

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

1776 अमेरिका की आजादी

अमेरिका के आजाद होने के पश्चात अमेरिका में मानव अधिकार की घोषणा होती है अमेरिका की आजादी के बाद मानव अधिकार पर चर्चा की जाती है उन्हें लागू करने की बात की जाती है

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

फ्रांस की क्रांति 1789

फ्रांस की क्रांति के बाद सत्ता आम आदमी के पास पहुंचने पर फिर से मानव अधिकार पर चर्चाएं शुरू हो जाती है इस प्रकार मानव अधिकार के लिए यह वर्ष भी काफी महत्वपूर्ण रहा है

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

USA बिल ऑफ राइट्स 1791

इसे अधिकारों का विधेयक के नाम से भी जाना जाता है इस विधेयक के प्रथम सृजन करता जेम्स मैडिसन थे यूनाइटेड स्टेट्स बिल ऑफ़ राइट्स में यूनाइटेड स्टेट्स संविधान के पहले दस संशोधन शामिल हैं। अधिकार संशोधन विधेयक संविधान में व्यक्तिगत स्वतंत्रता और अधिकारों की विशिष्ट गारंटी, सरकार की शक्ति पर स्पष्ट सीमाएं जोड़ता है। न्यायिक और अन्य कार्यवाही में घोषणाएं स्पष्ट कि संविधान द्वारा संघीय सरकार को विशेष रूप से प्रदान नहीं की गई सभी शक्तियां राज्यों या लोगों के लिए आरक्षित हैं।

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

सार्वभौमिक घोषण

10 December 1948 को मानवाधिकार की सार्वभौमिक घोषणा हो जाती है इसी के चलते विश्व में 10 दिसंबर को मानव अधिकार दिवस के रूप में मनाते हैं

human rights act 1993

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

मानव अधिकार संबंधित कुछ महत्वपूर्ण संधि :

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

नागरिक एवं राजनीतिक अधिकारों पर अंतरराष्ट्रीय संधि
हस्ताक्षर प्रक्रिया की शुरुआत : 16-dec-1966
लागू हुई : 23-mar-1976
भारत द्वारा हस्ताक्षर- 1979

आर्थिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक अधिकारों पर अंतरराष्ट्रीय संधि
हस्ताक्षर प्रक्रिया की शुरुआत : 16-dec-1966
लागू हुई : 3-jan-1976

मानवाधिकारों पर विश्व सम्मेलन(world conference on human rights)
वर्ष : 1993
स्थान : Vienna (Austria)

मानव अधिकार के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त का कार्यालय (Office of the United nation high commissioner for human right)
शुरुआत : 20-dec-1993
स्थान : Geneva (Switzerland)

संयुक्त राष्ट्र मानव अधिकार परिषद (united nations human rights council)
शुरुआत – 15-mar-2006
प्रारंभिक सदस्य : 47

Click Here to मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम 1993 PDF File

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

human rights act 1993
human rights act 1993

मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम 1993
अध्याय : 8
अनुच्छेद : 43

human rights act 1993 : 12- oct-1993 भारत के राष्ट्रपति ने अध्यादेश परित कर राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग का गठन किया जिसे मानव अधिकार संरक्षण अधिनियम 1993 के नाम से जाना जाता है

human rights act 1993

मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम 1993 :

प्रस्तावना

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

अध्याय

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.


1. प्रारंभिक (अनुच्छेद: 1 से 2 तक )
2. राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग (अनुच्छेद: 3 से 11 तक )
3 . आयोग के कृत्य और शक्तियां (अनुच्छेद: 12 से 16 तक )
4. प्रक्रिया (अनुच्छेद: 17 से 20 तक )
5.राज्य मानव अधिकार आयोग (अनुच्छेद: 21 से 29 तक )
6. मानव अधिकार न्यायालय (अनुच्छेद: 30 से 31 तक )
7. वित्त,लेखा और संपरीक्षा (अनुच्छेद: 32 से 35 तक )
8. प्रकीर्ण (अनुच्छेद: 36 से 43 तक )

अनुच्छेद

1. संक्षिप्त नाम , विस्तार और प्रारंभ
2.परिभाषाए
3. राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग का गठन
4. अध्यक्ष और अन्य सदस्यों की नियुक्ति
5. अध्यक्ष और सदस्यों का त्यागपत्र और हटाया जाना
6. अध्यक्ष और सदस्यों की पदावधि
7. कतिपय परिस्थितियों में सदस्य का अध्यक्ष के रूप में कार्य क या उसके कृत्यों का निर्वहन
8. अध्यक्ष और सदस्यों की सेवा के निबंधन और शर्ते
9. रिक्तियों , आदि से आयोग की कार्यवाहियों का अविधिमान्य
10. प्रक्रिया का आयोग द्वारा विनियमित किया जाना
11. आयोग के अधिकारी और अन्य कर्मचारिवृन्द
12. आयोग के कृत्य
13. जांच से सबंधित शक्तियां
14. अन्वेषण
15. आयोग के समक्ष व्यक्तियों द्वारा किए गए कथन
16. उन व्यक्तियों की सुनवाई जिन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ना संभाव्य है
17 . शिकायतों की जाच
18. जांच के दौरान और जाच के पश्चात् कार्रवाई
19. सशस्त्र बलों की बाबत प्रक्रिया
20. आयोग की वार्षिक और विशेष रिपोर्ट
21. राज्य मानव अधिकार आयोगों का गठन
22. राज्य आयोग के अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्ति
23. राज्य आयोग के अध्यक्ष या किसी सदस्य का हटाया जाना
24 . राज्य आयोग के अध्यक्ष और सदस्यों की पदावधि
25. कतिपय परिस्थितियों में सदस्य का अध्यक्ष के रूप में कार्य करना या उसके कृत्यों का निर्वहन
26. राज्य आयोगों के अध्यक्ष और सदस्यों की सेवा के निबंधन और शर्ते
27. राज्य आयोग के अधिकारी और अन्य कर्मचारिवृन्द
28 . राज्य आयोग की वार्षिक और विशेष रिपोर्ट
29. राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग से संबंधित कतिपय उपबंधों का राज्य आयोगों को लागू होना
30. मानव अधिकार न्यायालय
31. विशेष लोक अभियोजक
32. केन्द्रीय सरकार द्वारा अनुदान
33. राज्य सरकार द्वारा अनुदान
34. लेखा और संपरीक्षा
35. राज्य आयोग के लेखा और सपरीक्षा
36. आयोग की अधिकारिता के अधीन न आने वाले विषय
37. विशेष अन्वेषण दलों का गठन
38. सद्भावपूर्वक की गई कार्रवाई के लिए संरक्षण
39. सदस्यों और अधिकारियों का लोक सेवक होना
40. नियम बनाने की केन्द्रीय सरकार की शक्ति
40(क). भूतलक्षी रूप से नियम बनाने की शक्ति
40(ख). आयोग की विनियम बनाने की शक्ति
41. नियम बनाने की राज्य सरकार की शक्ति
42. कठिनाइयों को दूर करने की शक्ति
43. निरसन और व्यावृत्ति

human rights act 1993

वन लाइनर्स प्रश्न (one liners question)

राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के प्रथम अध्यक्षन्यायमूर्ति एसएस काग
आयोग संबंधित कार्यों का उल्लेख हैअनुच्छेद -12
आयोग जांच के बाद कथम उठा सकता हैअनुच्छेद – 18
राज्य आयोग के अध्यक्ष की नियुक्ति कौन करता हैराजपाल
राष्ट्रीय मानव अधिकार अधिनियम संशोधित किया गया2006
सबसे पहले मानव अधिकार को मान्यता दी गाईग्रीक राज्यों ने
आयोग व्यक्ति के कथन ले सकता है किस अनुच्छेद से संबंधित हैअनुच्छेद- 15
अध्यक्ष के अलावा सदस्य होते हैं7
सदस्यों की पदावधि होती है5
सदस्यों की आयु सीमा होती है70
आयोग किस अनुच्छेद के तहत प्रक्रिया को स्वयं नियमित करता हैअनुच्छेद- 10
किस अनुच्छेद के तहत आयोग का वार्षिक प्रतिवेदन केंद्र के आगे प्रस्तुत करना पड़ता हैअनुच्छेद – 20
किस अनुच्छेद के तहत लोक अभियोजक की नियुक्ति की जाती हैअनुच्छेद-31
विशेष अन्वेषण दलों का गठन किस अनुच्छेद के तहत किया जाता है37
human rights act 1993

मानवाधिकारों से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

Q.1 – मानवाधिकार क्या है ?

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

Ans. मनुष्य को वो सभी अधिकार देना जो व्यक्ति के जीवन स्वतंत्रता, समानता एवं प्रतिष्ठा से जुड़े हुए हैं मानवाधिकार के तहत आते है

Q.2 – मानवाधिकार में कितने अध्याय हैं ?

In this paragraph, I’m going to discuss a few reasons why practice is important to mastering skills. Firstly, the only way to truly learn a skill is by actually doing what you’ll have to do in the real world. Secondly, I think practice can be a fun way of putting in the necessary hours. There are, however, some people who will disagree. Thirdly, and most importantly, it is said that people tend to remember only 10-20% of what they read or hear. Moreover, that number rises to as much as 90% when you put theory to practice. In conclusion, following up explanation with practice is key to mastering a skill.

Ans. मानवाधिकार अधिनियम में 8 अध्याय हैं

Q.3 – मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम कब पारित हुआ ?

Ans. 12- oct-1993

Q.4 – मानवाधिकार में कितने अनुच्छेद हैं ?

Ans. मानवाधिकार अधिनियम में 43 अनुच्छेद हैं

miscellaneous

It’s time to rise

It’s time to work

It’time to do

Save Nature
(God will Don’t Create again a new Planet For us)

1 thought on “human rights”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Translate »