Uttar Pradesh Static GK


UP GK Test Series


उत्तर प्रदेश का इतिहास

 उत्तर प्रदेश 

महान मौर्य सम्राट चन्द्रगुप्त (शासनकाल ईसापूर्व 321-297), सम्राट अशोक (ईसापूर्व तीसरी सदी), समुद्र गुप्त (चौथी सदी) और चन्द्रगुप्त 2 (शासनकाल 380 से 415) इन सभी राजा महाराजा ने उत्तर प्रदेश में ही शासन किया था। हर्ष जैसे महान और प्रसिद्ध शासक (शासनकाल 606-647) ने भी इस राज्य में एक समय में शासन किया था।

राजा हर्ष अपनी राजधानी कान्यकुब्ज से पुरे उत्तर प्रदेश पर नियंत्रण करने का काम करते थे। उनका राज्य आज के बिहार, मध्य प्रदेश, पंजाब और राजस्थान में भी स्थित था। ईसापूर्व छटी सदी के दौरान वैदिक धर्म पूरी तरह से ब्राह्मण लोगो का हो चूका था जिसकी वजह से ईसापूर्व दूसरी सदी तक जिसका रूप पूरी तरह से हिन्दू धर्म में परिवर्तित हो गया था।

इसी समय के दौरान यानि ईसापूर्व छटी और चौथी सदी के दौरान गौतम बुद्ध ने भी वाराणसी के सारनाथ में पहली बार धर्मोपदेश किया था। उन्होंने जिस बौध्द धर्म की स्थापना की थी वो केवल भारत तक ही सिमित नहीं रही बल्की चीन और जापान जैसे देशो में भी इस धर्मं के लोग बड़ी संख्या में है। बौद्ध ने जिस जगह पर परिनिर्वाण लिया था वह कुशीनगर भी उत्तर प्रदेश में स्थित है।

यह जगह आज कसिया नाम से जानी जाती है। शुरुवात में बौद्ध, ब्राह्मण और हिन्दू संस्कृति का विकास साथ में ही हो रहा था। ईसापूर्व तीसरी सदी में सम्राट अशोक के समय में मूर्ति और वास्तुकला का काफी विकास हुआ था। गुप्त वंश (चौथी से छटी सदी) शासन काल में हिन्दू कला और संस्कृति का काफी विकास हुआ था।

लेकिन 647 के करीब हर्ष राजा की मृत्यु होने के बाद में बौद्ध धर्म का पतन होना शुरू हो गया था और उसके साथ ही दूसरी तरफ़ हिन्दू धर्म का विकास बड़ी तीव्रता से होने लगा था। लेकिन 12 वी सदी में जब मुज़ल्दीन मुहम्मद इब्न सैम (मुहम्मद घुरी) ने उत्तर प्रदेश के गहड़वालों को हराया तो उसके बाद यहापर मुस्लिमो का शासन शुरू हो गया था।

करीब 600 सालों तक उत्तर प्रदेश में केवल मुस्लीम वंश के लोगो का ही शासन रहा और उत्तर प्रदेश दिल्ली के नजदीक होने के कारण दिल्ली सलतनत में भी कुछ लोग उत्तर प्रदेश के ही थे। सन 1526 में बाबर ने दिल्ली के सुलतान इब्राहीम लोधी को हराकर दिल्ली में मुस्लीम वंश के शासन की स्थापना की जिसके कारण दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 200 सालों से अधिक समय तक मुगलों ने शासन किया।

जब अकबर बादशाह (शासनकाल 1556-1605) बन गया था उसके समय में मुग़ल का साम्राज्य काफी बड़ा हो चूका था और अकबर बादशाह ने आगरा के नजदीक में अपनी नयी राजधानी फतेहपुर सिकरी की स्थापना की थी। अकबर के पोते शाहजहाँ ने पत्नी की याद में आगरा में दुनिया की सबसे खुबसूरत ईमारत ताज महल बनाया था। शाहजहाँ ने आगरा और दिल्ली में बहुत सारी इमारतों का निर्माण किया था।

18 वी सदी और 19 वी सदी के मध्य के 75 साल के समय में ईस्ट इंडिया कम्पनी ने उत्तर प्रदेश का पूरा हिस्सा कब्जे में कर लिया था। शुरुवात में लोग इस प्रान्त को आगरा प्रेसीडेंसी कहते थे। ईस्ट इंडिया कम्पनी ने सन 1856 मे औध को अपने कब्जे में कर लिया था और सन 1877 में उत्तर पश्चिमी प्रान्त का हिस्सा बना दिया था।

सन 1950 में जिस तरह के उत्तर प्रदेश का निर्माण किया गया ठीक उसी तरह का उत्तर प्रदेश उस समय के अंग्रेजो ने बनाया था। जब 1880 के दौरान भारतीय राष्ट्रवाद की शुरवात होने लगी थी तो उस वक्त स्वतंत्रता आन्दोलन में संयुक्त प्रान्त का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान था।

मोतीलाल नेहरु, पंडित मदन मोहन मालवीय, मोतीलाल के बेटे जवाहरलाल नेहरु और पुरुषोत्तम दास टंडन जैसे राष्ट्रीय नेता इसी संयुक्त प्रान्त से थे। महात्मा गांधी ने जो सन 1920-22 में असहकार आन्दोलन शुरू किया था जिसकी वजह से अंग्रेजो की हुकूमत को बहुत बड़ा नुकसान हुआ था लेकिन संयुक्त प्रान्त के चौरी चौरा गाव में एक जगह पर हिंसा हुई थी जिसकी वजह से महात्मा गांधी को इस आन्दोलन को बिच में ही रोकना पड़ा।

मुस्लीम लीग भी संयुक्त प्रान्त में ही रहकर अपने काम किया करती थी। अंग्रेजो के समय में संयुक्त प्रान्त में कैनाल, रेलवे और अन्य तरह के यातायात का विकास किया गया। अंग्रेजो ने शिक्षा पर ज्यादा जोर देते हुए नए कॉलेज और यूनिवर्सिटीज की स्थापना की।

सन 1947 में देश को आजादी मिलने के बाद में संयुक्त प्रान्त को भारत में शामिल कर लिया गया था। दो साल बाद तेहरी गढ़वाल राज्य (उत्तराखंड), रामपुर, वाराणसी, को संयुक्त प्रान्त का हिस्सा बना दिया गया था। सन 1950 में भारत का नया संविधान बनने के बाद संयुक्त प्रान्त का नाम बदलकर उत्तर प्रदेश कर दिया गया।

उत्तर प्रदेश का देश में आजादी से लेकर आज तक बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रहा है। इसी राज्य ने जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, अटल बिहारी वाजपेयी जैसे प्रधान मंत्री इस देश को दिए।

प्रदेश के पड़ोसी राज्य

              राज्यउन से सटे हुए जिले
हिमाचल प्रदेशसहारनपुर
उत्तराखंडसहारनपुर ,  मुजफ्फरनगर  , बिजनौर ,  मुरादाबाद बरेली ,  पीलीभीत , 
बिहारकुशीनगर ,  बलिया,  देवरिया,  गाजीपुर
झारखंडसोनभद्र
छत्तीसगढ़सोनभद्र
मध्य प्रदेशसोनभद्र ,  मिर्जापुर ,  इलाहाबाद ,  चित्रकूट ,  ,  बांदा हमीरपुर ,  महोबा ,  ललितपुर ,  जलाऊ  ,  इटावा ,  आगरा ,  झांसी
राजस्थानआगरा ,  मथुरा ,  अलीगढ़ ,  गाजियाबाद
हरियाणासांवली , बागपत ,  सहारनपुर

उत्तर प्रदेश एकमात्र देश नेपाल के साथ सीमा साझा करता है

 जिले पूर्व से पश्चिम –  महाराजगंज ,  सिद्धार्थनगर ,  बलरामपुर ,  बहराइच।,  लखीमपुर ,  पीलीभीत मर्सी चर्च सुमन

  उत्तर प्रदेश –  राज्य प्रतीक

  •  उत्तर प्रदेश का राजकीय चिन्ह –  एक वृत्त में दो मछलियां तथा एक तीर धनुष (  राज्यकिय सन  1980 ई में  स्वीकृत किया गया था)
  • उत्तर प्रदेश का राजकीय वृक्ष –  अशोक
  •  राजकीय पुष्प –  पलाश
  •  राजकीय पशु –  बारहसिंघा
  •  राजकीय पक्षी –  सारस
  •  राजकीय भाषा –  हिंदी(1947 ) ,  सेकंड राजभाषा –  उर्दू(1989 )
  •  राजकीय खेल –  हॉकी 

  उत्तर प्रदेश –  प्रशासनिक इकाइयां

  •  जिलों की संख्या  – 75 
  •  मंडलों की संख्या – 18 (18 वा  अलीगढ़)
  •  सबसे बड़ा मंडल –  कानपुर और लखनऊ
  •  सबसे छोटा मंडल –  सहारनपुर
  •  ग्राम पंचायत – 59073 
  •  नगर पंचायत – 437 
  •  नगर पालिका परिषद – 198 
  •  नगर निगम  – 17 

मुख्यालय से भीन्न नाम वाले जिले 

जिले का नाम  मुख्यालय 
अमेठीगौरीगंज
संत कबीर नगरखलीलाबाद
गौतम बुद्ध नगरनोएडा
कौशांबीमंझनपुर
अंबेडकर नगरअकबरपुर
कुशीनगरपडरौना
कानपुर देहातअकबरपुर माती
सिद्धार्थनगरनौगढ़
सोनभद्रराबर्ट्सगंज
जालौनउरई
फर्रुखाबादफतेहगढ़

उत्तर प्रदेश के जिले ,  मुख्यालय व क्षेत्रफल(स्थीय  राज्य सूचना विभाग उत्तर प्रदेश)

जिले का नाममुख्यालयक्षेत्रफल( वर्ग किलोमीटर)
लखीमपुर खीरी  खीरी7680 
सोनभद्र  राबर्टगंज6905 
हरदोईहरदोई5988 
सीतापुरसीतापुर5743 
इलाहाबादइलाहाबाद5482 
बदायूंबदायूं4234 
ललितपुरललितपुर5039 
झांसीझांसी5024 
शाहजहांपुरशाहजहांपुर4388 
जालौनउरई 4565 
बिजनौरबिजनौर4561 
उन्नावउन्नाव4558 
मिर्जापुरमिर्जापुर4505 
बांदाबांदा4408 
बहराइचबहराइच5237 
बाराबंकी  बाराबंकी4402 
बुलंदशहरबुलंदशहर4512 
हमीरपुरहमीरपुर4021 
फतेहपुरफतेहपुर4152 
बरेलीबरेली4120 
आजमगढ़आजमगढ़4054 
जौनपुरजौनपुर4038 
आगराआगरा4041 
मुजफ्फरनगरमुजफ्फरनगर 2991 
गोंडागोंडा4003 
प्रतापगढ़प्रतापगढ़3717 
सहारनपुरसहारनपुर3689 
अलीगढ़अलीगढ़3650 
पीलीभीतपीलीभीत3686 
गोरखपुरगोरखपुर3321 
गाजीपुरगाजीपुर3377 
बलरामपुरबलरामपुर3349 
मथुरामथुरा3340 
रायबरेलीरायबरेली4043 
बलियागलियां2981 
चित्रकूटचित्रकूट 3216 
कानपुर नगरकानपुर3155 
कानपुर देहातअकबरपुर माती3021 
महाराजगंजमहाराजगंज2952 
कुशीनगरपडरौना2905 
सिद्धार्थनगरनौगढ़2895 
महोबामहोबा3144 
सुल्तानपुरसुल्तानपुर2672 
बस्ती बस्ती2688 
मेरठमेरठ2559 
मैनपुरीमैनपुरी2760 
चंदौलीचंदौली2541 
देवरियादेवरिया2540 
लखनऊलखनऊ2528 
श्रावस्ती  श्रावस्ती1640 
संभलपावा शाह2381 
एटाएटा2431 
रामपुररामपुर2367 
फिरोजाबादफिरोजाबाद2407 
अंबेडकर नगरअंबेडकर नगर2350 
फैजाबाद( अयोध्या)फैजाबाद2341 
इटावाइटावा2311 
  अमरोहाअमरोहा2249 
फर्रुखाबादफर्रुखाबाद2181 
कन्नौजकन्नौज2193 
औरैयाऔरैया2016 
कासगंजकासगंज1955 
कौशांबीकौशांबी1713 
मऊमऊ1713 
संत कबीर नगरसंत कबीर नगर1646 
वाराणसीवाराणसी1535 
गौतम बुध नगरनोएडा1282 
बागपतबागपत1321 
शामली  शामली1017 
भदोहीभदोही1015 
गाजियाबादगाजियाबाद 1179 

                                            उत्तर प्रदेश के कुछ भौतिक जानकारी

 क्षेत्रफल  –  240,928

  सर्वाधिक क्षेत्र फल वाले जिले 

  • लखीमपुर खीरी  –  (7680  )
  • सोनभद्र    –   (6788 ) 
  • हरदोई   –  (5947 ) 
  • सीतापुर  –  (5743 )
  • कम   –
  • हापुड़ – (660 )
  • गाजियाबाद – ( 910 ) 
  • संत बिदासनगर – (1015) 
  • शामली -(116758 )

एनसीआर

  गाजियाबाद ,  हापुड़ ,  मेरठ ,  बागपत गौतम बुध नगर ,  बुलंदशहर ,  मुजफ्फरनगर ,  शामली 

उत्तर प्रदेश की राज्य व्यवस्था  

  • 1 नवम्बर 1950  –   up स्थापना दिवस 
  • 9 नवंबर 2000  –   यूपी विभाजन दिवस
  •  राजधानी  –  लखनऊ
  •  राज चिन्ह  –   1938 में स्वीकृत
  •  दो मछलियां  –  अवध के मुस्लिम शासन का प्रतीक
  •  तीर धनुष  –   हिंदू शासन राम का प्रतीक
  •  राजकीय पुष्प  –   पलाश( टेसू)
  •  तीन रंग  लाइन –  गंगा यमुना का प्रतीक
  •  राजकीय वृक्ष –  अशोक
  •  राजकीय पक्षी  –   सारस
  •  राजकीय पशु  –   बारहसिंघा
  •  राजकीय भाषा  –   हिंदी(1989 ) उर्दू द्वितीय  भाषा
  •  लोकसभा सदस्य  –   80
  •  राज्यसभा सदस्य  –    31
  •  विधानसभा  –   404( 404 प्लस 1)
  • विधान परिषद  –  100 
  • जिला  –   75 
  • मंडल  –  18 

  वन एवं वन्य जीव संरक्षण   

  1. यूपी में वाञ्छादित  क्षेत्र  –  7%
  2.  सर्वाधिक वनाच्छादित क्षेत्र  –  सोनभद्र
  3.  यूपी में राष्ट्रीय उद्यान – 1 
  4.  वन्य जीव विहार –  12
  5.  प्राणी उद्यान  –  २2 
  6.  पक्षी विहार  –  13 
  7.  प्राणी उद्यान  –   लखनऊ कानपुर
  8.  घड़ियाल संरक्षण  –  कुकरेल( लखनऊ) बहराइच

उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था

  •  भारत में सर्वाधिक गरीब व्यक्ति की संख्या है
  • यूपी में गरीबी रेखा से नीचे  जनसंख्या29 .43 प्रतिशत
  • यूपी का  देश का योगदान –  9.4  प्रतिशत
  •  यूपी में सर्वाधिक प्रति व्यक्ति आय  –  गौतम बुध नगर
  •  गरीबी रेखा से नीचे सबसे कम लोग  –  बागपत
  •  यूपी में आय का सबसे बड़ा भाग –   व्यापार
  • यूपी में सर्वाधिक व्यापार का संग्रह  जॉन   –   लखनऊ
  • VAT   – 1 जून 2008 से लागू

खनिज

  •  यूपी में खनिज के संदर्भ में सर्वाधिक उत्पन्न जिले मिर्जापुर
  • मिर्जापुर –बलुआ पत्थर
  •  प्रयागराज –सिलिका बालू( कांच वाली)
  •  ललितपुर  –यूरेनियम ,  बाबा
  •  सोनभद्र –चुना ,कोयल,चाइना क्ले 
  • अभ्रक  – नहीं पाया जाता 

प्रमुख औद्योगिक संस्थान 

  • भारत के इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड         –   गाजियाबाद
  •  हिंदुस्तान एलमुनियम कारपोरेशन   –   रेणुकूट ,  मिर्जापुर
  •  भारतीय कालीन प्रौद्योगिकी संस्थान  ,   भदोही(  संत रविदास नगर)

प्रमुख उद्योग संस्थान

  • मिट्टी खिलौना  –  आगरा
  •   खड़ाऊ  –   पीलीभीत
  •  कांच सामान ,   पोटरी  उद्योग
  •  लकड़ी खिलौना  –  वाराणसी
  •  टेराकोटा  –  गोरखपु 
  •   पॉलिफिबर  –   बाराबंकी
  •  प्लाईवुड   –   नजीमाबाद
  •  रबड़  –    मोदीनगर
  •  ग्रेनाइट पट्टी प्लेट  –  चुनार
  •  सीमेंट उद्योग   –  चुर्क ,,  डाला               – 
  •  खेल का सामान  –   मेरठ आगरा
  •   गुलाब जल  –  –     गाजीपुर
  •  खांडसारी मंडी  –   मुजफ्फरनगर 
  •  फर्नीचर बेड  दियासलाई  –   बरेली
  •  कागज निर्माण  –   मेरठ
  •  जरी कागज   –   सहारनपुर
  •  चूड़ी उद्योग  –   फिरोजाबाद
  •  छपाई फार्मा उद्योग  –   फर्रुखाबाद
  •  प्रथम चीनी मिल  –   देवरिया( प्रतापगढ़)
  • ट्रांसफॉर्मर फैक्ट्री  –   झांसी
  •  इंडियन टेलिफोन इंडस्ट्री  –   रायबरेली
  •  उर्वरक कारखाना –   फूलपुर ( इलाहाबाद)
  •  मैसूर पैलेस परियोजना  –   आंवला
  •  इलेक्ट्रॉनिक प्लास्टिक सिटी  –   कानपुर
  •  चिकन काम  –   लखनऊ
  •  चीनी मिट्टी बर्तन  –   चिनहट( लखनऊ)
  •  मिट्टी बर्तन          –  खुर्जा

परिवहन 

  1. उत्तर मध्य रेलवे का मुख्यालय  –   इलाहाबाद
  2.  राज्य जलमार्ग नंबर वन  –   गंगा नदी में (इलाहाबाद से हल्दिया)
  3.  नागरिक उड्डयन प्रशिक्षण केंद्र  –   इलाहाबाद
  4.  इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी  –   फुरसतगंज( रायबरेली) 

शास्त्रीय नृत्य

  1.  कथक – कहानी का जन्म यूपी
  2. सर्व प्रमुख केंद्र –  लखनऊ
  3.  प्रमुख उन्नायक –  ठाकुर प्रसाद बिंदादीन( कत्थक में ठुमरी)
  4.  चर्चित व्यक्तित्व  –  सितारा देवी( बनारस घराना) महाराज बिरजू महाराज
  5. नौटंकी –  यूपी में सर्वाधिक प्रचलित लोकप्रिय( हाथरस क्षेत्र)
  6.  बिरहा –  पूर्वांचल भोजपुर की प्रसिद्ध लोक गायक परंपरा अधिकांश वीर रस के गीत
  7.  आल्हा  – बुंदेलखंड क्षेत्र( महोबा) में वीर रस
  8.  धुरिया कार्तिक  राहुला –  बुंदेलखंड
  9.  चरकुला –  ब्रज क्षेत्र

नृत्य 

  •   रसिया –  बरसाना लठमार होली
  •  करमा –  सोनभद्र
  •  मल्हार  –  कोरवी  लोकगीत
  •  धोवर  –  कहार जाति पूर्वांचल
  •  देवा  –  बाराबंकी
  •  नटवरी –  पूर्वांचल कजरी मिर्जापुर बनारस ढोला मारो( राजस्थान क)

संगीत

  1. अमीर खुसरो  – सितार का अविष्कार चाल गायन का विकास  जनम  –  एटा
  2.  स्वामी हरिदास  –  ध्रुपद धमार राख का प्रवर्तन
  3.  हाजी सुल्तान –  तानसेन के दमाद 
  4.  हुसैन  शाहशरकी    –   सर की सुल्तान बड़ा ख्याल का आविष्कार

मंदिर

  1. विश्वनाथ मंदिर –  वाराणसी 
  2.  वृंदावन मंदिर  –  मथुरा
  3.  विंध्यवासिनी मंदिर  – विंध्याचल मिर्जापुर
  4.  बाबा सोमनाथ मंदिर –   देवरिया
  5.  श्रृंगी ऋषि का मंदिर –  फर्रुखाबाद
  6.  वराह भगवान मंदिर –  एटा
  7.  देवीपाटन मंदिर –  तुलसीपुर 

  मेला

  • यूपी में सर्वाधिक मेला –  मथुरा
  • ध्रुपद मेला –  वाराणसी
  •  हरिदास जयंती –  वृंदावन
  • गोविंद साहब मेला –  अंबेडकर नगर
  • महावीर जी मेला –  लखनऊ
  • परिक्रमा मेला –  सावन झूला अयोध्या
  • माघ मेला   – प्रयागराज
  • नौचंडी मेला –  मेरठ
  • देवी पाटन  – मेला गोंडा
  • मार्गशीर्ष मेला –  एटा
  • शाकुंभरी देवी मेला –  सहारनपुर
  • देवा शरीफ मेला –  बाराबंकी
  • मकनपुर मेला –  फर्रुखाबाद
  • रामायण मेला –  चित्रकूट नगर 
  • प्राचीनतम जीवंत नगर –  वाराणसी
  • बागों का शहर –  लखनऊ
  • कैची नगरी –  मेरठ

उत्तर प्रदेश पश्चिम विहार

  1. सबसे पहला पक्षी विहार –  नवाबगंज पक्षी विहार( ललितपुर)
  2.  सबसे बड़ा पक्षी विहार 1988 –  लाख बहोसी पक्षी विहार
  3.  बखीरा पक्षी विहार –  संत कबीर नगर (भदोही) में स्थित है 
  4.  ओखला पक्षी विहार –  गौतम बुध नगर में स्थित है
  5.  समसपुर पक्षी विहार –  रायबरेली में स्थित है

उत्तर प्रदेश स्मरणीय तथ्य 

  1.  चिंकारा –  विंध्य के जंगलों में
  2.  हाथी –  शिवालिक
  3.  गैंडा –  तराई क्षेत्र में
  4.  लुप्त प्रजाति का प्रजनन केंद्र –  लखनऊ

उत्तर प्रदेश राज्य  प्राणी उद्यान

  1. कानपुर प्राणी उद्यान
  2.  लखनऊ प्राणी उद्यान
  3.  गोरखपुर प्राणी उद्यान –  निर्माणाधीन
  4.  उत्तर प्रदेश इटावा –  बाबर प्रजनन केंद्र
  5.  प्रथम राष्ट्रीय वन्यजीव पार्क –  ग्रेटर नोएडा
  6.  कछुआ प्रजनन केंद्र –  कुकर( लखनऊ) सारनाथ( वाराणसी)